दुनिया का पहला टेलिस्कोप- COBE (The Cosmic Background Explorer)

COBE (The Cosmic Background Explorer)

COBE (The Cosmic Background Explorer)

COBE (The Cosmic Background Explorer)

इसे साल 1989 में Faint Infrared (एक प्रकार की Wave) और Microwave Radiation का अध्ययन करने के लिए लॉंच किया गया। यह तरंगे प्रारंभिक काल से ब्रह्मांड में विद्यमान है जिसे Cosmic Background Radiation कहते है। वैज्ञानिकों को विश्वास था की जब बिग बैंग की घटना हुई उस समय इस Radiation की उत्पत्ति हुई या यूं कहे Cosmic Background Radiation यूनिवर्स में विद्युत चुम्बकीय ऊर्जा का एक रूप है जो बिग बैंग की घटना से यूनिवर्स में बनी थी। आइए जानते है COBE Telescope के बारे में-

आप यह भी पढ़ें-

Facts About International Space Station

नासा के वैज्ञानिकों ने Cosmic Background Radiation के बारे में अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए इस टेलिस्कोप का निर्माण किया। जिसकी शुरुआत इस प्रकार से होती है, 1974 में नासा ने एक औपचारिक घोषणा की जिसमें Astronomical Missions के लिए एक छोटे और मध्यम आकार के Spacecraft Explorer के बारे में सुझाव मांगे। नासा को 121 प्रस्ताव प्राप्त हुए, जिसमें से तीन प्रस्ताव Cosmic Background Radiation के अध्ययन के बारे में थे। उस समय नासा ने इन विचारों का ज्यादा महत्व नहीं दिया। लेकिन 1976 में यह तीन प्रस्ताव रखने वाली टीम के एक-एक सदस्य की समिति बनाई और उसे इसी प्रकार के एक Satellite बनाने के लिए अपने विचार रखने को कहा। कुछ समय बाद समिति ने इस तरह के Satellites बनाने के लिए अपने विचार रखे।

एक साल बाद इस समिति ने एक Polar Orbiting Satellite यानी COBE के बारे में अपने विचार रखे और कहा की इसे Delta Rocket या Space Shuttle के द्वारा लॉंच किया जाएगा। नासा ने इस प्रस्ताव को स्वीकार किया, बशर्तें Data Analysis और Launcher को छोडकर लागत 30 मिलियन डॉलर से कम आए। लेकिन उस समय IRAS Satellite पर काम चल रहा था, जिस कारण GSFC (Goddard Space Flight Center) ने 1981 तक इसका निर्माण शुरू नहीं किया। लागत बचाने के लिए Infrared Detectors और Liquid Helium Dewar का प्रयोग किया गया। COBE को मूल रूप से Vandenberg Air Force Base से 1988 में एक स्पेस शटल मिशन STS-82-B पर लॉन्च करने की योजना बनाई गई थी, लेकिन चैलेंजर विस्फोट ने इस योजना में देरी कर दी। लेकिन आखिरकार, एक पुनः डिज़ाइन किए गए COBE को 18 नवंबर 1989 एक डेल्टा रॉकेट से लॉंच कर पृथ्वी के वायुमंडल की ऊपरी कक्षा में स्थापित किया गया।

COBE मुख्यतः तीन उपकरणों से बना था, जिनके नाम और काम इस प्रकार है- Diffuse Infrared Background Experiment (DIRBE) जिसका काम Cosmic Infrared Background Radiation की खोज करना, दूसरा Differential Microwave Radiometer (DMR) का काम Cosmic Radiation को sensitively Map करना और तीसरा Far Infrared Absolute Spectrophotometer (FIRAS) जो Cosmic Microwave Background Radiation के स्पेक्ट्रम की तुलना Precise Blackbody के साथ करना।

COBE ने ऊर्जा के लिए सूर्य के प्रकाश का Use किया, जिसे इकट्ठा करने के लिए COBE ने सौर पैनलों का इस्तेमाल किया और Satellite के ठंडे भागों को गर्म करने के लिए प्रकाश एक Funnel-Shaped Sunshade का उपयोग किया। इसके अलावा, तरल हाइड्रोजन ने दूरबीन को ठंडा रखने में मदद की। COBE को अत्यधिक ठंडा रहना बहुत जरूरी था क्योंकि यह Infrared Light या Heat का अध्ययन कर रहा था। अगर COBE ठंडा नहीं रहता तो Infrared Signals को ऑब्जर्व करना बंद कर देता।

आइए जानते है COBE की उपलब्धियों के बारे में, COBE ने प्रारंभिक ब्रह्मांड की हमारी समझ में क्रांति ला दी। इसने ब्रह्मांड के सबसे पुराने प्रकाश- Cosmic Microwave Background को ठीक से मापा और मैप किया। Cosmic Microwave Background स्पेक्ट्रम 0.005% की सटीकता के साथ मापा गया था। इस स्पेक्ट्रम के परिणामों ने ब्रह्मांड की उत्पत्ति के सिद्धांत बिग बैंग सिद्धांत की पुष्टि की। इसके बहुत सटीक मापों ने बिग बैंग के बारे में कई महान सिद्धांतों को समझने और परखने में मदद की। जिससे कई सिद्धांत अपने आप गलत साबित हो गए। मिशन ने नासा के WMAP मिशन और ESE के प्लैंक मिशन द्वारा Microwave Background के गहन अन्वेषण का रास्ता साफ करते हुए वैज्ञानिकों के लिए के लिए सटीक मापन के एक नए युग की शुरुआत की। वैज्ञानिकों ने Infrared और Microwave Radiation में यूनिवर्स का नक्शा बनाने के लिए COBE द्वारा एकत्रित जानकारी का उपयोग किया। उन्होंने पाया कि Cosmic Background Radiation सभी जगह एक समान नहीं है। यह एक ऐसी खोज थी जिसने दिखाया कि कैसे प्रारम्भिक ब्रह्मांड में आकाशगंगाएं बनना शुरू हुईं।

COBE बहुत ताकतवर नहीं था, विशेष रूप से आज के अंतरिक्ष दूरबीनों की तुलना में। लेकिन इसने बिग बैंग के सिद्धांत की पुष्टि करने और वैज्ञानिकों को ब्रह्मांड की उत्पत्ति के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने में बहुत मदद की। 1993 में COBE ने अपना मिशन पूरा किया। इस प्रकार यह कहा जा सकता है, COBE ही वो पहला Satellite था जिसने हमें यूनिवर्स के बारे में विस्तार से समझाने में मदद की।

सोर्स-नासा

Only Knowledge
The Knowledge Darshan ब्लॉग आप सभी की मदद के लिए बनाया गया है। इस ब्लॉग पर आपको हम नई से नई जानकारी देने का प्रयास करते है जो आपको और जगह दूसरी भाषा में मिलती है। हमारी पूरी टीम हर एक आर्टिक्ल के लिए कड़ी मेहनत करती है। पूरी रिसर्च और आंकड़ों के साथ हम किसी भी जानकारी को आप तक पहुंचाते है। अब हमें आपके प्यार और आशीर्वाद की आवश्यकता है ताकि हम अपना काम पूरे जोश और मेहनत से कर सकें। हमारे साथ जुड़े रहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।