आज की आधुनिक सिलाई मशीन का आविष्कार किसने किया?

aadhunik-silai-machine-ka-avishkar-kisne-kiya

सिलाई मशीन का आविष्कार किसने किया?

सिलाई मशीन

आज के युग में अच्छा और सुन्दर दिखना सबका शौंक है। जिसके लिए वो अनेक प्रकार के उपाय करते हैं। उनमें से कपड़ों का Fashion सबसे ज्यादा प्रचलित है। अच्छे कपड़े पहनना हर किसी की इच्छा होती है। अच्छे कपड़ें पहनने के लिए आज की पिढ़ी कोई भी कीमत चुकाने के लिए तैयार होती है। अच्छे कपड़े बनाना एक दर्जी का काम होता है। जिसके लिए उसे एक सिलाई मशीन की आवश्यकता होती है। बिना सिलाई मशीन के कपड़े बनाना नामुमकिन है। लेकिन क्या आपको मालूम है आज हम जो सिलाई मशीन घर में उपयोग में लाते हैं उस सिलाई मशीन का आविष्कार किसने किया था?

सिलाई मशीन की खोज का श्रेय

सिलाई मशीन के आविष्कार का श्रेय मुख्यतः 5 व्यक्तियों का दिया जाता है। जिनके नाम “जोसेफ मदर्सपर्गर, इलायस होवे, वाल्टर हंट, बर्थेलेमी थिमोनियर और एलन बी. विल्सन” है। इन पांचों ने अलग-अलग तरीके से मशीनों को डिजाइन किया था। धीरे-धीरे जब इनसे लोगों का संपर्क बढ़ता गया तो इन पांचों मशीनों के संयोजन से नई-नई मशीनों का निर्माण होता गया। जिसके हम आज मौजूदा समय में अनके रूप देखते है।

एक महीने में तेज-तर्रार टाइपिंग कैसे सीखे (Typing Kaise Sikhe)?

सिलाई मशीन का आविष्कार कैसे किया?

  1. जोसेफ मदर्सपर्गर का जन्म 1768 ई. में हुआ था और इन्होनें सिलाई मशीन का निर्माण 1807 ई. में किया लेकिन दुनिया के सामने इन्होनें इसे 1814 ई. में प्रदर्शित किया। इनके इस अद्भुत आविष्कार के लिए 1841 में सिल्वर मेडल से नवाजा गया था। बीच के समय में इन्होनें अपनी मशीन को बेहतर करने के लिए अनेक प्रयोग किये थे जिनमें से वो कुछ में सफल हुए और कुछ में असफल। इन्हीं प्रयोगों के दौरान 1839 में इन्होनें बुनाई करने वाली मशीन की भी खोज भी खोज की थी।
  2. आज के आधुनिक समय में इलायस होवे को सिलाई मशीन की खोज का सबसे बड़ा श्रेय दिया जाता है। इलायस होवे का जन्म 9 जुलाई, 1819 को अमेरिका के मैसाचुसेट्स में हुआ था। इन्होनें पूर्व में बनी मशीनों में सुधार करके एक नई Automatic मशीन का निर्माण किया। जिसके लिए उन्हें 1846 में ‘‘यूनाईटेड स्टेट पेन्टेट’’ से सम्मानित किया गया। सुई के नीचे का छेद, लाॅक सिलाई करने के लिए कपड़े के नीचे एक शटल का संचालन और Automatic फीड का होना इनके मशीन की खाशियत थी।
  3. वाल्टर हंट एक अमेरिकी मैकेनिक थे जिनका जन्म 29 जुलाई, 1796 ई. को न्यूयाॅर्क के माॅन्टिसबर्ग में हुआ। अपने काम के कारण वह एक आविष्कारक के रूप में विख्यात हो गए। इन्होनें लाॅकस्टिच सिलाई मशीन, सेफ्टी पिन, एक फ्लेक्स स्पिनर, चाकू शाॅर्पनर, स्ट्रीट स्वीपिंग मशीनरी आदि अनेक वस्तुओं का आविष्कार किया। जब इन्होनें इनका निर्माण किया था तब उन्हें इनकी महत्वता का अहसास नहीं हुआ लेकिन आज मुख्यतः इनका बहुत उपयोग किया जाता है। इनकी एक सबसे अच्छी बात यह थी कि इन्होनें हाथ से सिलाई का काम बंद होने के डर से सिलाई मशीन को पेन्टेट या प्रदर्शित नहीं किया था। लेकिन इलायस होवे ने इनकी मशीन का पुनः निर्माण किया।
  4. बर्थेलेमी थिमोनियर का जन्म 19 अगस्त 1793 ई. को फ्रांस में हुआ था। इन्होने 1829 ई. में सिलाई मशीन का आविष्कार किया। इन्होनें 1830 में सिलाई मशीन को पेन्टेट आवेदन प्रस्तुत किया जो कुछ समय बाद 7 जुलाई 1830 में दो व्यक्तियों के नाम पर जारी हुआ। इस पेन्टेट को फ्रांसिसी सरकार सपोर्ट कर रही थी। इसी वर्ष इन्होनें दुनिया में पहली बार मशीनों से कपड़े बनाने वाली कंपनी खोली। लेकिन यह सिर्फ सेना की वर्दी बनाने का कार्य करती थी। बाद में कुछ लोगों ने रोजगार छिन्न जाने के डर से इस कंपनी में आग लगा दी। फिलहाल इस मशीन का एक माॅडल “लंदन साइंस म्यूजियम” में मौजूद है।
  5. एलन बी. विल्सन का जन्म 18 अक्टूबर 1823 ई. को हुआ न्यूयाॅर्क में हुआ। जब यह 16 वर्ष के थे तो इनको लुहारों के कार्य करने का तरीका बहुत पसंद आया था, जिसमें धीरे-धीरे इन्होनें महारत हासिल कर ली। 1847 ई. में इन्होनें एक सिलाई मशीन की कल्पना की जिसके बारे में इन्होनें कभी नहीं सुना था। हालांकि इसी देश में इस समय तक इलायस होवे ने मशीन का आविष्कार कर लिया था। 1851 ई. में विल्सन ने राॅटरी हुक कि सहायता से सिलाई मशीन के एक ढांचा तैयार किया। इस मशीन में घुमावदार सुई का इस्तेमाल किया गया।

आज के लेख में हमने सिलाई मशीन के आविष्कार के बारे में पढ़ा। अगर आपको हमारे लेख में कोई कमी दिखाई देती है तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं। आपका हर सुझाव हमारे लिए कीमती है। अगर आप किसी अन्य प्रकार की जानकारी चाहते है तो हमें अपना सुझाव दे सकते है।

Only Knowledge
The Knowledge Darshan ब्लॉग आप सभी की मदद के लिए बनाया गया है। इस ब्लॉग पर आपको हम नई से नई जानकारी देने का प्रयास करते है जो आपको और जगह दूसरी भाषा में मिलती है। हमारी पूरी टीम हर एक आर्टिक्ल के लिए कड़ी मेहनत करती है। पूरी रिसर्च और आंकड़ों के साथ हम किसी भी जानकारी को आप तक पहुंचाते है। अब हमें आपके प्यार और आशीर्वाद की आवश्यकता है ताकि हम अपना काम पूरे जोश और मेहनत से कर सकें। हमारे साथ जुड़े रहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।