बुर्ज खलीफा का मालिक कौन है ॥ Burj khalifa ka malik kaun hai?

बुर्ज खलीफा का मालिक कौन है?

Burj khalifa ka malik kaun hai?- दुनिया की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज खलीफा अपने आप में ही एक बहुत बड़ा अजूबा है। आज जो भी बुर्ज खलीफा के बारे में जानता है, उसकी यह इच्छा जरूर है कि वो एक दिन उस इमारत में जरूर जाएँ। लेकिन यह इतना भी आसान नहीं है, क्योंकि यह दुनिया के सबसे अमीर शहरों में गिने जाने वाला दुबई शहर में स्थित है।

दुबई जैसे महंगे शहरों में और इसकी भव्यता के कारण इसमें रहना बहुत महंगा है। बुर्ज खलीफा का अरबी में मतलब खलीफा tower होता है। आसमान को छूने वाली इस इमारत का निर्माण 2004 में शुरू हुआ था और यह 2010 में बनकर तैयार हुई। उद्घाटन से पहले यह बुर्ज दुबई के नाम से जानी जाती थी।

इस इमारत को 2010 में इंजीनियरिंग का एक अनोखा अजूब देने के लिए खोला गया था। development की इस नई मिशाल को उस समय Downtown Dubai नाम दिया गया। उस समय इस इमारत का निर्माण बड़े पैमाने पर अलग-अलग उपयोगों के लिए किया गया था।

इस इमारत को बनाने का निर्णय उस समय की वहाँ की सरकार ने लिया था। अपनी बुद्धि का उपयोग करते हुए उन्होंने सोचा की तेल पर चलने वाली अर्थव्यवस्था के बोझ को कम किया जाए। यानी वे चाहते थे कि उनका देश अकेला तेल पर न टिका रहे, उसके कमाई के साधन अलग होने चाहिए।

नाटो क्या है और यह कैसे काम करता है?

इसलिए उन्होंने पर्यटन का रास्ता चुना और बुर्ज खलीफ़ा का निर्माण शुरू किया। इसके साथ ही वो चाहते थे कि दुबई को अंतरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त हो जाए। शुरुआत में इमारत को मूल रूप से बुर्ज दुबई नाम दिया गया था, लेकिन अबू धाबी के शासक और संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति खलीफा बिन जायद अल नाहयान के सम्मान में इसका नाम बदल दिया गया था।

बनने के बाद इस इमारत ने ऊंचाई के कई रिकॉर्ड तोड़ दिए, जिसमें दुनिया की सबसे ऊंची इमारत के रूप में इसका नाम भी शामिल है। तो अब आपके मन में यह सवाल जरूर आ रहा होगा कि बुर्ज खलीफा का मालिक कौन है (Burj khalifa ka malik kaun hai)? तो आज हम इसी के बारे में पढ़ेंगे।

Overview

बुर्ज खलीफा को स्किडमो के Adrian Smith और Owings & Merrill ने डिज़ाइन किया था। इनकी फ़र्म ने विलिस टॉवर और वन वर्ल्ड ट्रेड सेंटर को डिजाइन किया था। यह इमारतें भी अपने आप में कलाकारी की एक अनोखी पहचान है। इसी कारण बुर्ज खलीफा के डिज़ाइन का कार्य इन्हें मिला था।

हैदर कंसल्टिंग को NORR Group Consultants International Limited के साथ supervising engineer के रूप में चुना गया था। साथ ही इन्हें इस प्रोजेक्ट की architecture का supervisor भी नियुक्त किया गया था। उनके द्वारा लिया गया डिज़ाइन उस क्षेत्र की Islamic architecture से लिया गया था।

मिस्र के पिरामिडों का निर्माण किसने करवाया था?

Y-shape में बनी यह इमारत होटल्स और आवास के लिए बनाई गई थी। एक buttressed central core और wings का उपयोग इमारत की ऊँचाई को सपोर्ट करने के लिए उपयोग किए गए थे। बुर्ज खलीफा का यह डिज़ाइन टॉवर पैलेस III से लिया गया था।

शुरुआत की स्ट्रक्चर में एक क्लैडिंग सिस्टम भी है, जिसे दुबई की गर्मी का सामना करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसमें कुल 57 लिफ्ट और 8 एस्केलेटर हैं। बुर्ज खलीफा बनाते समय एम्मार डेवलपर्स ने एक वक्त financial problems का सामना किया था क्योंकि उनकी यह इमारत बजट से बाहर जाने लग गई थी।

इसलिए उन्हें और अधिक ज्यादा धन और आर्थिक वित्त पोषण की आवश्यकता थी। लेकिन संयुक्त अरब अमीरात के शासक शेख खलीफा ने आर्थिक सहायता और वित्त पोषण प्रदान किया, इसलिए इसका नाम बदलकर “बुर्ज खलीफा” कर दिया गया।

इस इमारत के आस-पास बने मॉलस और अन्य व्यवसायों ने जमकर कमाई की। डाउनटाउन दुबई में इसके आसपास के मॉल, होटल और कॉन्डोमिनियम ने इस प्रोजेक्ट से सबसे अधिक राजस्व अर्जित किया है, जबकि बुर्ज खलीफा ने खुद बहुत कम या न के बराबर कमाई की है।

बुर्ज खलीफा का मालिक कौन है?

Burj khalifa ka malik kaun hai?

अब आप सोच रहे हैं कि इस शानदार इमारत का मालिक कौन है (Burj Khalifa ka malik kaun hai)? लेकिन आज आपके इस सवाल का जवाब मिल जाएगा। असल में बुर्ज खलीफा का मालिक एम्मार प्रॉपर्टीज हैं। इस रियल एस्टेट कंपनी की स्थापना 1997 में चेयरमैन मोहम्मद अलब्बार ने की थी। एमार प्रॉपर्टीज दुबई में अन्य प्रसिद्ध प्रोजेक्ट्स जैसे दुबई मॉल और दुबई मरीना के भी मालिक है।

Emaar properties की सबसे हालिया परियोजनाओं में से एक दुबई ओपेरा है। 2000 सीटों वाला यह performance center डाउनटाउन दुबई की The Open District में स्थित है। एमार प्रॉपर्टीज के पास दुनिया भर के अन्य देशों में भी सैंकड़ों परियोजनाएं हैं।

एमार के पास मिस्र, भारत, सऊदी अरब, सीरिया, तुर्की, पाकिस्तान और इराक में कई प्रोजेक्ट्स हैं। कंपनी Emaar Misr ने एक परियोजना पर काम करना शुरू किया है जिसमें 3000 कमरों वाला एक होटल, एक मरीना और एक सोने का कोर्स मौजूद है। सोने के इस कोर्स को मरासी कहा जाता है। यह परियोजना उन 3 परियोजनाओं में से एक है, जिन पर एमार ने मिस्र में काम किया था।

Emaar Properties की नजर में

दुनिया की सबसे ऊंची इमारत, एक जीवित आश्चर्य, कला का एक आश्चर्यजनक काम, इंजीनियरिंग का एक अतुलनीय कारनामा, बुर्ज खलीफा वह सब है। Concept और Execution में बुर्ज खलीफा का कोई समकक्ष नहीं है।

बुर्ज खलीफा सिर्फ दुनिया की सबसे ऊंची इमारत से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय सहयोग का एक अभूतपूर्व उदाहरण है। प्रगति का एक प्रतीकात्मक प्रतीक और नए, गतिशील और समृद्ध मध्य पूर्व का प्रतीक है।

यह बदलती दुनिया में दुबई की बढ़ती भूमिका का भी ठोस सबूत है। 30 से भी कम वर्षों में इस शहर ने खुद को एक क्षेत्रीय केंद्र से एक वैश्विक केंद्र में बदल दिया है। यह सफलता तेल भंडार पर आधारित नहीं थी, बल्कि मानव प्रतिभा, सरलता और पहल के भंडार पर आधारित थी। बुर्ज खलीफा उस दृष्टि का प्रतीक है।

Emaar Properties PJSC बुर्ज खलीफा का मास्टर डेवलपर है और यह दुनिया की सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनियों में से एक है। एमार प्रॉपर्टीज के चेयरमैन श्री मोहम्मद अलब्बार ने कहा: “बुर्ज खलीफा अपने भव्य भौतिक विनिर्देशों से परे है। बुर्ज खलीफा में हम असंभव लगने वाले और नए मानक स्थापित करने के दुबई के दृष्टिकोण की जीत के रूप में देखते हैं। यह एमार में हम सभी के लिए प्रेरणा का स्रोत है।”

एमार के पास केवल एक प्रेरणा थी, यूएई के उपराष्ट्रपति, प्रधान मंत्री और दुबई के शासक Sheikh Mohammed Bin Rashid Al Maktoum द्वारा दिया गया अटूट उत्साह, जो हमें सितारों तक पहुंचने के लिए प्रेरित करता है। इस तरह से Emaar Properties इस इस गगनचुंबी इमारत बुर्ज खलीफा के मालिक है।

बुर्ज खलीफा से जुड़े फ़ैक्टस

  1. बुर्ज खलीफा की ऊंचाई 828 मीटर (2716.5 फीट) है, जिससे पूरी दुबई दिखाई देती है। यह एफिल टॉवर से तीन गुना लंबा और एम्पायर स्टेट बिल्डिंग से लगभग दोगुना लंबा है। अगर सिरे से सिरे तक बिछाए गए इसके टुकड़े एक साथ रखे जाएँ तो यह पूरी दुनिया की एक चौथाई हिस्से में हैं। इसकी क्लाउड-पियर्सिंग ऊंचाई निश्चित रूप से ब्रुज खलीफा के बारे में सबसे प्रभावशाली तथ्यों में से एक है।
  2. दुनिया की सबसे ऊंची इमारत होने का विश्व रिकॉर्ड रखने के अलावा, बुर्ज खलीफा में छह अन्य विश्व रिकॉर्ड भी हैं। बुर्ज खलीफा दुनिया की सबसे ऊंची फ्रीस्टैंडिंग संरचना है, इसकी दुनिया में सबसे ज्यादा कहानियां हैं, दुनिया में सबसे ज्यादा occupied floor है, दुनिया में सबसे ऊंची बालकनी है, इसमें सबसे ऊंची दूरी तय करने वाली लिफ्ट है और साथ ही दुनिया में सबसे ऊंची सर्विस लिफ्ट है।
  3. बुर्ज खलीफा के बारे में सबसे माइंड blowing फ़ैक्ट यह है कि आखिर इसमें इस्तेमाल की गई सामग्री का वजन कितना है। एक रिसर्च के मुताबिक इसमें उपयोग की गई कंक्रीट का वजन 1,00,000 हाथियों के बराबर है। साथ ही बुर्ज खलीफा में इस्तेमाल किए गए एल्यूमीनियम का कुल वजन पाँच A 380 विमानों के वजन के बराबर है।
  4. बुर्ज खलीफा से जुड़ा एक मजेदार तथ्य जिसकी आप वास्तव में सराहना कर सकते हैं। इसकी स्थिरता और संसाधनों का पुन: उपयोग है। हर साल 15 मिलियन गैलन पानी स्थायी रूप से एकत्र किया जाता है। पानी का उपयोग सिंचाई के लिए भूनिर्माण और पौधों को पानी देने के लिए किया जाता है। साथ ही cooling system और दुबई फाउंटेन की आपूर्ति के लिए भी इसके पानी का उपयोग किया जाता है।
  5. इस इमारत में सबसे लंबा सिंगल रनिंग लिफ्ट है, जो 140 मंजिलों का है। बुर्ज खलीफा में लगी लिफ्ट की गति 10 मीटर प्रति सेकंड है, जिससे यहाँ की लिफ्ट दुनिया में सबसे तेज है। बुर्ज खलीफा लिफ्ट को 124वीं मंजिल पर ऑब्जर्वेशन डेक तक पहुंचने में केवल एक मिनट का समय लगता है।

निष्कर्ष

तो दोस्तों यह था आज का हमारा बुर्ज खलीफा का मालिक कौन है (Burj khalifa ka malik kaun hai)? आपको यह आर्टिक्ल कैसा लगा हमें कमेंट कर जरूर बताएं। अगर बुर्ज खलीफा का मालिक कौन है (Burj khalifa ka malik kaun hai)? से जुड़ी जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो आप अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

बुर्ज खलीफा का मालिक कौन है (Burj khalifa ka malik kaun hai)? आर्टिक्ल से संबधित आपको किसी प्रकार की अन्य जानकारी चाहिए तो आप हमें हमारे social media platforms पर सवाल कर सकते हैं।

वैसे बुर्ज खलीफा अपने आप में ही एक बहुत बड़ा नाम है। हम सभी की यह इच्छा अवश्य रहती है कि हम एक बार बुर्ज खलीफा के बारे में जरूर जानें।

Leave a Comment